सितम्बर 27, 2022 8:01 पूर्वाह्न

Category

कश्मीर के उरी में घुसपैठ की कोशिश कर रहे तीन आतंकी ढेर

जम्मू-कश्मीर के उरी में पाकिस्तानी आतंकियों द्वारा गुरुवार को घुसपैठ करने की कोशिश हुई…भारतीय सेना ने तीनों का किया।
घने जंगल, पत्तों के कवर और लगातार बारिश व निचले बादलों की आड़ में घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे आतंकवादी।

1144
2min Read
कश्मीर पाकिस्तान घुसपैठ

उरी (जम्मू और कश्मीर) [भारत], 26 अगस्त : भारतीय क्षेत्र में पाकिस्तानी आतंकवादियों द्वारा शुक्रवार को घुसपैठ करने की कोशिश करते हुए एक वीडियो सामने आया है। इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस गैजेट्स से बनाए गए वीडियो में तीन आतंकवादी देखे जा सकते हैं।

गुरुवार को भारतीय सेना ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पार करने की कोशिश कर रहे इन तीनों आतंकियों का सफाया कर दिया था। भारतीय सेना के अधिकारियों ने कहा, “विशिष्ट खुफिया सूचना मिलने के बाद इलेक्ट्रॉनिक निगरानी उपकरणों द्वारा इन आतंकवादियों का पता लगाया गया और सेना के सतर्क जवानों ने तीनों आतंकवादियों को मार गिराया।”

भारतीय सेना ने पूरे इलाके की तलाशी के बाद दो एके राइफल, एक चीनी एम-16 राइफल और अन्य गोला-बारूद सहित बड़ी मात्रा में युद्धक भण्डार के साथ आतंकवादियों के शव बरामद किए। 

कश्मीर जोन पुलिस ने बताया, “सेना और बारामूला पुलिस ने उरी के कमलकोट सेक्टर में मदियान नानक पोस्ट के पास 3 घुसपैठियों (FTS) को मार गिराया। अधिक जानकारी सामने आना बाकी है।” पिछले तीन दिनों में जम्मू-कश्मीर की नियंत्रण रेखा पर सेना द्वारा नाकाम की गई यह घुसपैठ की चौथी कोशिश है। पीआरओ (डिफेंस) श्रीनगर के अनुसार, सेना की खूफिया एजेंसियों द्वारा विशिष्ट खूफिया जानकारी के आधार पर ऑपरेशन शुरू किया गया था।

रक्षा पीआरओ ने कहा, “नतीजतन, 24 अगस्त दोपहर को, घुसपैठियों को पकड़ने के लिए सेना ने कई घात लगाए। संदिग्ध क्षेत्र की गहन इलेक्ट्रॉनिक निगरानी के बाद 25 अगस्त को 07 बजे घुसपैठ के प्रयास का पता चला। आतंकवादी घने जंगल, पत्तों के कवर और लगातार बारिश व निचले बादलों की आड़ में घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे।”

25 अगस्त को सुबह लगभग 08.45 बजे एलओसी के भारतीय हिस्से के अग्रिम इलाकों में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ हुई, और भारी गोलीबारी में आतंकवादी मारे गए। दोपहर 2 बजे उस इलाके की विस्तृत तलाशी पूरी की गई।

भारतीय सेना के सफल ऑपरेशन से न केवल तीन पाकिस्तानी आतंकवादियों का सफाया हुआ है, बल्कि जम्मू-कश्मीर में शांति, समृद्धि और सामान्य स्थिति को बाधित करने के पाकिस्तान के नापाक मंसूबों और मंशा को भी सेना ने विफल कर दिया है।

बुधवार को तीसरी घुसपैठ की थी नाकाम

जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद के खिलाफ इलेक्ट्रॉनिक निगरानी और खुफिया आधारित अभियानों का इस्तेमाल भारतीय सेना के मिशनों का मुख्य आधार बना हुआ है। इससे पहले भारतीय सेना ने बुधवार की रात जम्मू-कश्मीर के अखनूर सेक्टर के पल्लनवाला इलाके की नियंत्रण रेखा (LOC) पर आतंकवादियों की तीसरी घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया था।

सेना के अधिकारियों ने बुधवार को कहा था, “23 अगस्त की रात को अखनूर सेक्टर के पल्लनवाला में एलओसी पर भारतीय सेना द्वारा घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया गया। एलओसी पर पिछले 72 घंटों में घुसपैठ का यह तीसरा असफल प्रयास है।”

दूसरी घुसपैठ: बारूदी माइन पर पैर रखने से मरे थे दो आतंकी

बुधवार को ही घुसपैठ की दूसरी घटना में, भारतीय सेना ने दो पाकिस्तानी आतंकवादियों के शव बरामद किए थे, जो बारूदी खदानों की एक श्रृंखला की एक खदान पर कदम रखने के कारण मारे गए थे।

पहली घुसपैठ: बाड़ काटकर भागने की कोशिश कर रहे थे आतंकी

घुसपैठ की पहली घटना 21 अगस्त 2022 को हुई जिसपर रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “21 अगस्त 2022 को सुबह नौशेरा के झंगर सेक्टर में तैनात सतर्क जवानों ने नियंत्रण रेखा पर दो से तीन आतंकियों की हरकत देखी. एक आतंकी भारतीय चौकी के करीब आया और सतर्क संतरियों द्वारा चुनौती दिए जाने पर बाड़ काटने की कोशिश की। ”

“आतंकवादी ने भागने की कोशिश की, लेकिन प्रभावी गोलीबारी से उसे नीचे उतारकर भागने में अक्षम कर दिया गया। पीछे छिपे हुए दो आतंकवादी घने जंगल और टूटी हुई जमीन की आड़ में क्षेत्र से भाग गए। घायल पाकिस्तानी आतंकवादी को जिंदा पकड़ लिया गया और तत्काल चिकित्सा प्रदान की गई सहायता और जीवन रक्षक सर्जरी की गई।”

पकड़े गए आतंकी ने अपना नाम तबराक हुसैन बताया और खुद को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के कोटली जिले के सब्ज़कोट गाँव का रहने वाला बताया।

Mudit Agrawal
Mudit Agrawal
All Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Recent Posts

Popular Posts

Video Posts