फ़रवरी 2, 2023 12:47 पूर्वाह्न

Category

AIB से लेकर AAP, Vijay Nair का उदय और पतन

इवेंट मैनेजमेंट कंपनी 'ओनली मच लाउडर' के पूर्व सीईओ Vijay Nair को मंगलवार (27 सितम्बर, 2022) सीबीआई द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया

1086
2min Read
Vijay Nair

इवेंट मैनेजमेंट कंपनी ‘ओनली मच लाउडर’ के पूर्व सीईओ Vijay Nair को मंगलवार (27 सितम्बर, 2022) सीबीआई द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया। दिल्ली आबकारी नीति मामले में उन पर जांच चल रही है। हाल के सालों में वह आम आदमी पार्टी से काफी करीबी से जुड़े हुए थे। उनकी गिरफ्तारी के बाद आप नेताओं ने आरोप लगाया है कि ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि उन्होंने दिल्ली के डिप्टी मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का नाम सीबीआई के सामने नहीं लिया। 

Vijay Narir सीबीआई की एफआईआर में दोषी नामित थे। इसी एफआईआर में दिल्ली के डिप्टी मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का भी नाम था। 

कौन है Vijay Nair?

Vijay Nair, सीबीआई की एफआईआर में यह नाम 14 अन्य आरोपियों से एकदम अलग सा दिख रहा था।  

Vijay Nair की फोटो
Vijay Nair की फोटो

मुंबई के एक कॉलेज में वाणिज्य स्नातक कोर्स से ड्रॉपआउट होने के बाद, उन्होंने 2002 में ओएमएल कंपनी की स्थापना की। इस कंपनी ने लाइव संगीत कार्यक्रम, कॉमेडी शो और कलाकार प्रबंधन पर ध्यान केंद्रित किया।

लंबे समय तक, बैकस्टेज मैनेजर के रूप में जाने जाने वाले Vijay Nair, सिर्फ कुछ समय में ही इंडी म्यूजिक इंडस्ट्री में गेम चेंजर के रूप में विख्यात हुए

प्रिंट के अनुसार, “कंपनी NH7 वीकेंडर जैसे प्रमुख कार्यक्रमों की खोज के लिए जानी जाती है, जो देश में सबसे बड़ा लाइव इंडी संगीत समारोह बन गया”।

उन्हें कुख्यात और विवादास्पद कॉमेडी ग्रुप एआईबी के कार्यक्रमों के प्रबंधन के लिए जाना जाता था। 2014 तक, ओएमएल की नेटवर्थ अनुमानित यूएस $10 मिलियन तक पहुँच गई है। 

इस ही दौरान आम आदमी पार्टी से उनकी नजदीकियां बढ़ी। 

Vijay Nair और राजनीति 

कई सूत्रों के अनुसार, Vijay Nair आप के कई नामचीन नेताओं के साथ उठता- बैठता है, और वह भी पार्टी में किसी भी आधिकारिक पद के बिना। 

प्रारंभ में, Vijay Nair आम आदमी पार्टी (आप) के लिए सिर्फ एक वालंटियर था। उन्होंने आम आदमी पार्टी के लिए डोनेशन और चैरिटी वाले कार्यक्रमों का आयोजन करके पार्टी में राजनीतिक पारी की शुरू की। अपने संपर्क के कई बड़े सितारों को अकसर वे इन कार्यक्रमों में भाग लेने के आमंत्रित करते थे। 

2015 के दिल्ली विधानसभा चुनावों में AAP की प्रचंड जीत ने Vijay Nair और पार्टी के बीच संबंधों को मजबूत किया।

2019 की एक रिपोर्ट के अनुसार, तत्कालीन AAP प्रवक्ता आतिशी मार्लेना ने दावा किया कि था Vijay Nair पार्टी में एक अंशकालिक वालंटियर थे और “सोशल मीडिया में काम करते हैं और पार्टी के कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं”।

सूत्रों के अनुसार, 2019 के लोकसभा चुनावों में विजय नायर, आम आदमी पार्टी के मीडिया प्रबंधन गहराई से शामिल थे। लोकसभा चुनाव में पार्टी की हार के बावजूद उन्होंने खुद को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के विश्वासपात्रों में प्रमुखता से स्थापित कर लिया था।

2020 के दिल्ली विधानसभा चुनावों में Vijay Nair की रणनीति और प्रबंधन ने अपना प्रभाव दिखाया। इन चुनावों में आम आदमी पार्टी की जीत में Vijay Nair की डिजिटल संचार रणनीति का एहम योगदान था। 

सीबीआई द्वारा एफआईआर में सबसे पहले Vijay Nair गिरफ्तार हुए हैं। आम आदमी पार्टी पर दबाव अब और बढ़ेगा क्योंकि अब और गिरफ्तारियां होनी तय हैं। 

Yash Rawat
Yash Rawat

बात करते हैं लेकिन सिर्फ काम और समय अनुसार

All Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Recent Posts

Popular Posts

Video Posts