फ़रवरी 4, 2023 1:51 अपराह्न

Category

महँगा पड़ा ट्रम्प को सस्पेंड करना, एलन मस्क के आते ही ट्विटर के कई अधिकारी 'फायर'

बीते बृहस्पतिवार की रात 44 बिलियन अमेरिकी डॉलर के बदले ट्विटर की कमान अब एलन मस्क के हाथों में आ गई है और इसके साथ ही वे अब ट्विटर के सबसे बड़े शेयरधारक बन गए हैं।

1637
2min Read
एलन मस्क

दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलन मस्क ने आखिरकार ट्विटर को खरीद लिया है। बीते बृहस्पतिवार की रात (अक्टूबर, 27, 2022) 44 बिलियन अमेरिकी डॉलर के बदले ट्विटर की कमान अब एलन मस्क के हाथों में आ गई है और इसके साथ ही वे अब ट्विटर के सबसे बड़े शेयरधारक बन गए हैं।

एलन मस्क के ट्विटर अधिग्रहण के एक दिन बाद अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से यह खबर आई है कि ट्विटर के सीईओ पराग अग्रवाल समेत दो अन्य शीर्ष कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है। आशंका जताई जा रही है कि ट्विटर के कई और कर्मचारियों को भी अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ सकता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एलन मस्क ने ट्टिटर को खरीदने से पहले ही अपने संभावित निवेशकों से कहा था कि “अगर वह ट्विटर को खरीद लेते हैं, तो ट्विटर के 7,500 कर्मचारियों में से लगभग 75% कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा। कम्पनी लगभग 2,000 कर्मचारियों को ही नौकरी पर रखेगी।”

हालाँकि, ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार, एलन मस्क ने ट्टिटर के कर्मचारियों से बातचीत में कहा है कि वह 75% कर्मचारियों को नौकरी से नहीं निकाल रहे हैं।

ट्विटर के मालिक एलन मस्क ने शुक्रवार (अक्टूबर, 28, 2022) को ट्वीट कर कहा है, “बर्ड इज फ्रीड”, इसका अर्थ यह है कि ट्टिटर अब मुक्त है। 

हालाँकि, नौकरी से निकालने वाली सूचना पर ट्विटर की तरफ से अब तक कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है।  

अमेरिकी अखबार वॉशिंगटन पोस्ट के टेक रिपोर्टर फ़ैज़ सिद्दिक़ ने ट्वीट कर जानकारी दी है कि पराग अग्रवाल, नेड सीगल और विजया गडे को एलन मस्क ने नौकरी से हटा दिया है। इसके अलावा ट्टिटर के जनरल काउंसल सीन एडगेट को भी बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है।

ग़ौरतलब है कि भारतीय मूल के पराग अग्रवाल बीते साल नवम्बर, 2021 में ट्विटर के सीईओ बने थे। जबकि भारतीय मूल की विजया गडे ट्टिटर की लीगल, पॉलिसी और ट्रस्ट प्रमुख थीं। वहीं, नेड सीगल ट्टिटर की मुख्य वित्त अधिकारी (सीएफओ) थीं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ट्टिटर के सीईओ पराग अग्रवाल और सीएफओ नेड सीगल ट्विटर के सैन फ्रांसिस्को मुख्यालय में उस समय मौजूद थे, जब यह सौदा पक्का हुआ। सौदा पूरे होते ही दोनों को मुख्यालय से बाहर निकाला गया।

वहीं, ट्टिटर के सह-संस्थापक बिज स्टोन ने आज एक ट्वीट कर, सीईओ पराग अग्रवाल, सीएफ़ओ नेड सीगल और लीगल हेड विजया गडे का धन्यवाद किया है। उन्होंने लिखा है, “पराग, विजया एवं नेड सीगल ट्टिटर में सामूहिक योगदान के लिए धन्यवाद। सभी विशाल प्रतिभा और अच्छे मनुष्य हैं।”

एलन मस्क पर मुकदमा दर्ज कर चुके हैं, पराग अग्रवाल

बता दें कि एलन मस्क ने इस साल अप्रैल माह में ट्विटर को खरीदने के लिए समझौता कर लिया था। हालाँकि, बाद में वे अपनी बात से मुकर गए थे। इस पर ट्टिटर के तत्कालीन सीईओ पराग अग्रवाल ने एलन मस्क पर केस भी दर्ज किया था। इसमें उन्होंने मस्क पर समझौते की शर्तें तोड़ने का आरोप लगाया था। बताया जा रहा था कि ट्विटर पर मौजूद कुछ कमियों को दूर करने के विषय पर दोनों के बीच टकराव के हालात बने थे, जिससे एलन मस्क ख़ुश नहीं थे।

एलन मस्क का ट्टिटर मुख्यालय में प्रवेश

ट्टिटर को खरीदने के बाद 27 अक्टूबर को एलन मस्क हाथ में ‘सिंक’ लेकर ट्विटर के मुख्यालय में पहुँचे थे। अपने ट्टिटर अकाउंट से वीडियो शेयर करते हुए उन्होंने लिखा, “लेट दैट सिंक इन।”

इस अंग्रेजी वाक्यांश के ज़रिए एलन मस्क ट्विटर के साथ अपनी रस्साकस्सी पर कटाक्ष कर रहे थे। इसके साथ ही, एलन मस्क ने अपना ट्विटर-बायो भी बदल दिया है। उन्होंने अपने बायो में लिखा है – ‘चीफ ट्वीट’ यानी ट्टिटर के मालिक।

विजया गडे चर्चा में क्यों हैं?

ट्टिटर के शीर्ष अधिकारियों को नौकरी से निकालने की खबर के बाद विजया गडे एक बार फिर चर्चा में आ गई है। विजया गडे लीगल और पॉलिसी प्रमुख होने के नाते कम्पनी में अहम भूमिका निभाती आई हैं। यह वही विजया गडे हैं, जिन्होंने अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के ट्टिटर अकाउंट को स्थायी रूप से निलंबित करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। 

विजया गडे पक्षपात के आरोप के चलते कई बार विवादों में रही हैं। साल 2018 में ट्टिटर के संस्थापक जैक डोर्सी ने भारत को लेकर एक विवादित पोस्ट किया था। इस पोस्ट में जैक डोर्सी एक पोस्टर पकड़े हुए ‘ब्राह्मणवादी पितृसत्ता से मुक्ति’ की बात कर रहे थे। जैक डोर्सी के साथ में विजया गडे, बरखा दत्त और थेनमोझी सुंदरराजन समेत अन्य लोग खड़े थे।

एलन मस्क का संदेश

एलन मस्क ने विज्ञापनदाताओं के नाम ट्वीट कर, ट्टिटर के अधिग्रहण के पीछे की अपनी भावना को व्यक्त किया है। उन्होंने लिखा, “सभ्यता के भविष्य के लिए एक सामान्य डिजिटल टाउन स्क्वायर होना महत्वपूर्ण है। जहाँ बिना लड़ाई-झगड़े के शान्ति से चर्चा हो सके। वर्तमान में सोशल मीडिया धुर दक्षिणपंथ और धुर वामपंथ में बँटा हुआ है, जिससे अधिक घृणा पैदा हो रही है और हमारा समाज बँट रहा है।” 

एलन मस्क ने कहा, जाहिर तौर पर ट्टिटर एक फ्री फॉर-ऑल हेलस्केप नहीं बन सकता है, जहाँ कुछ भी हो सकता है, बिना किसी परिणाम के कुछ भी कहा जा सकता है। 

दुनिया के सबसे अमीर उद्योगपति और टेस्ला के सीईओ एलन मस्क अक्सर ट्टिटर पर सक्रिय बॉट अकाउंट को लेकर हमलावर रहे हैं। एलन मस्क ट्विटर पर अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के पक्षधर और ट्टिटर के पक्षपातपूर्ण रवैये, मॉडरेशन पॉलिसी पर सवाल उठाते रहे हैं।

हाल ही में मस्क ने ट्वीट कर रहा भी था, “ट्विटर के बारे में एक खूबसूरत बात यह है कि यह कैसे नागरिक पत्रकारिता को सशक्त बनाता है। जहाँ लोग बिना किसी पूर्वाग्रह के समाचार प्रसारित कर सकते हैं।”

Jayesh Matiyal
Jayesh Matiyal

जयेश मटियाल पहाड़ से हैं, युवा हैं और पत्रकार तो हैं ही।
लोक संस्कृति, खोजी पत्रकारिता और व्यंग्य में रुचि रखते हैं।

All Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Recent Posts

Popular Posts

Video Posts