फ़रवरी 4, 2023 2:44 अपराह्न

Category

मुड़-मुड़ कर देखता हूँ तो शून्य ही पाता हूँ

मुड़कर इस आन्दोलन को देखा जाए तो ये आन्दोलन बिहार को कई राजनीतिज्ञ देने के लिए याद किया जा सकता है। इस आन्दोलन से निकले लालू प्रसाद यादव 1977 में 29 साल की उम्र में सबसे कम उम्र के सांसद बने। चारा घोटाले में जेल भी जा चुके हैं।

1878
2min Read

यह वो दौर था जब गुजरात में “नव निर्माण” नाम के छात्र आन्दोलन ने सरकार को उखाड़ फेंका था। गुजरात की ही तर्ज पर बिहार में भी आन्दोलन शुरू हो चुका था। वहाँ और यहाँ एक अंतर था। बिहार में छात्र राजनीति में सक्रिय राजनैतिक दलों की छात्र इकाइयाँ भी शामिल हो रही थीं। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद्, समाजवादी युवजन सभा, लोक दल, ऑल इंडिया स्टूडेंट फेडरेशन इत्यादि बिहार के आन्दोलन में शामिल हुए। विपक्षी पार्टियों ने तत्कालीन कांग्रेसी सरकार के खिलाफ हड़ताल का आह्वान किया। राज्यभर में जब 1973 में हड़ताल की बात चल रही थी, तब राज्य की कमान कांग्रेस पार्टी के अब्दुल गफूर के हाथ में थी।

इसी वक्त मध्य प्रदेश में 17 अगस्त 1973 को पुलिस की गोलियों से 8 छात्रों की मौत हुई और रैना जांच आयोग ने इसके लिए सीधे तौर पर मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार को दोषी बताया। बिहार भर के कई छात्र नेता उस वक्त बिहार छात्र संघर्ष समिति (बीसीएसएस) के तौर पर एक जगह इकठ्ठा होने लगे और 18 फ़रवरी 1974 को बीसीएसएस की बैठक हुई। इसमें लालू यादव को बीसीएसएस का प्रेसिडेंट चुना गया था। इस बीसीएसएस में सुशील मोदी और रामविलास पासवान जैसे नेता भी शामिल थे। 18 मार्च 1974 को बीसीएसएस ने बिहार विधानसभा का बजट सत्र के दौरान घेराव का फैसला किया।

इस घेराव के दौरान भूतपूर्व शिक्षा मंत्री रहे रामानंद सिंह का आवास ही जला डाला गया था। मुख्यमंत्री अब्दुल गफूर ने छात्रों को समझाने की कोशिश की थी, मगर राज्यभर में चल रहे आन्दोलन में तब तक पटना में कुछ छात्र पुलिस के हाथों मारे जा चुके थे। बीसीएसएस ने 23 मार्च को फिर से बिहार भर में हड़ताल का आह्वान किया। जब बिहार भर में ये सब चल रहा था तब तक जयप्रकाश गुजरात में “नव निर्माण” आन्दोलन देखकर लौटने की तैयारी में थे।

राजनैतिक रूप से ये “भूदान आंदोलन” के ख़त्म होने का दौर भी था और जेपी अपने आप को भूदान आन्दोलन से अलग कर रहे थे। फ़रवरी के शुरुआती दौर से शुरू हुई ये कवायद आखिर 30 मार्च 1974 को ख़त्म हुई जब उन्होंने आन्दोलन में शामिल होने की अपनी मंशा साफ़ जाहिर कर दी।

केंद्र की राजनीति और इन्दिरा गाँधी पर इन आन्दोलनों का असर न पड़ रहा हो, ऐसा भी नहीं था। ये जरूर कहा जा सकता है कि उस वक्त वो दूसरे मामलों में भी व्यस्त रही होंगी। “सरकारी संत” कहलाने वाले विनोबा भावे के आन्दोलन से अलग होकर कांग्रेसी सरकार को हटाने के छात्र आन्दोलन में शामिल हो रहे जेपी के बारे में तब इन्दिरा गाँधी ने कहा था कि “जो पूंजीपतियों से पैसा और मदद लेता रहता है… आखिर ऐसा आदमी भ्रष्टाचार पर बात भी कैसे कर सकता है?” कांग्रेसी समाजवाद उद्योगपतियों को भ्रष्ट और देश का शत्रु ही मानता था। उनकी ये सोच नेहरू वाले रिसाव के सिद्धांत से काफी हद तक आम आदमी में भी आई। “सरकारी संत” कहलाने वाले विनोबा भावे ने इसके थोड़े ही समय बाद लगे आपातकाल को “अनुशासन पर्व” घोषित किया था।

अप्रैल आते-आते ये आन्दोलन पूरी तरह जोर पकड़ चुका था। 8 अप्रैल को हजारों छात्र पटना के मौन जुलूस में शामिल हुए। गया में 12 अप्रैल को प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने गोलियां चलाई और लोग मारे गए। जवाब में आम जनता ने बिहार विधानसभा को भंग करने की मांग उठाई। एनएच 31 जाम कर दिया गया और लोगों ने खुद ही अपनेआप पर कर्फ्यू लगा लिया। अप्रैल के इस दौर में जेपी दिल्ली में नागरिक अधिकारों की मांग करने वाले संगठनों के साथ मिलकर सरकार का इस्तीफा मांग रहे थे। जाहिर है ये मांगें कामयाब नहीं हुईं। इस दौर तक ये आन्दोलन अपने पूरे शबाब पर नहीं आया था। सत्ता और विपक्ष दोनों ओर से रस्साकशी जारी थी और आम लोगों का पलड़ा भारी दिख रहा था।

यह अलग बात है कि कुर्सी के लालच में पड़े राजनीतिज्ञ उस वक्त भी जनभावना को समझने से साफ़ इनकार कर रहे थे। 5 जून को आयोजित रैली में जेपी ने जनता से बिहार विधानसभा पर विरोध प्रदर्शन करने कहा। “सम्पूर्ण क्रांति” कहलाने वाले आन्दोलन का दौर आने लगा था। 1 जुलाई 1974 तक करीब 1600 प्रदर्शनकारी और 60 से अधिक छात्र नेता गिरफ्तार किए जा चुके थे। जेपी ने 3 अक्टूबर से तीन दिन की राज्यव्यापी हड़ताल बुलाई और 6 अक्टूबर को एक जनसभा को भी संबोधित किया। नव निर्माण की ही तर्ज पर विधायकों से इस्तीफ़ा देने को भी कहा गया था लेकिन जैसा कि पहले ही कहा, अपनी आँखों पर चढ़ी चर्बी के कारण राजनीतिज्ञ जनभावना नहीं समझ रहे थे। उस समय के 318 विधायकों में से केवल 42 ने इस्तीफा दिया था। कई ने इस्तीफा देने से साफ़ मना कर दिया।

इन्दिरा गाँधी ने बिहार के मुख्यमंत्री अब्दुल गफ्फूर को नहीं बदला। वो गुजरात की तरह बिहार में “कमजोर पड़ती” नहीं दिखना चाहती थीं। गुजरात में चुनाव टाल दिए गए थे और मोरारजी देसाई के अनशन के बाद वहां 10 जून 1975 को चुनाव हुए। इन चुनाव में कांग्रेस को करारी हार झेलनी पड़ी थी और 12 जून 1975 को जिस दिन ये नतीजे आए, उसी दिन इलाहबाद हाई कोर्ट ने 1971 के लोकसभा चुनावों में धांधली करने के आरोप में इन्दिरा गाँधी का चुनाव रद्द कर दिया। इस फैसले के कारण वह संसद से तो निकाली ही गयी, साथ ही उनपर छः साल तक चुनाव न लड़ने का प्रतिबन्ध भी लगाया गया था। अदालत के फैसले को मानने से साफ़ इनकार करते हुए “आयरन लेडी” फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में गईं।

उस समय के राष्ट्रपति वीवी गिरी को कहकर मुख्य न्यायाधीश के तौर पर एएन रे को लाकर बिठाया गया। जेपी ऐसे फैसलों के भी विरोध में थे और इस बारे में भी उन्होंने इन्दिरा गाँधी को चिट्ठियां लिखी थीं। सत्ता कायम रखने के लिए इन्दिरा गाँधी ने 25 जून 1975 को लोकतंत्र का गला घोंट दिया। देश में आपातकाल लागू हो गया, जिसे “सरकारी संत” कहलाने वाले विनोबा भावे ने “अनुशासन पर्व” भी घोषित कर दिया था। जयप्रकाश नारायण और सत्येन्द्र नारायण सिन्हा जैसे कई नेता इस दौर में गिरफ्तार कर लिए गए। जेपी को उस दौर में चंडीगढ़ में रखा गया था और बिहार की बाढ़ पर जनता की मदद के लिए उन्होंने पेरोल भी माँगा था। उनकी तबीयत बिगड़ने पर जब 12 नवम्बर को उन्हें छोड़ा गया तो मुंबई के जसलोक अस्पताल में जांच में पता चला कि उनकी किडनी फेल हो चुकी है। उस समय से बाकी की उम्र जेपी ने डाईलिसिस पर गुजारी।

अब मुड़कर इस आन्दोलन को देखा जाए तो ये आन्दोलन बिहार को कई राजनीतिज्ञ देने के लिए याद किया जा सकता है। इस आन्दोलन से निकले लालू प्रसाद यादव 1977 में 29 साल की उम्र में सबसे कम उम्र के सांसद बने। आजकल चारा घोटाले के जुर्म में लालू यादव जेल की सजा काटने के बाद फिलहाल जमानत पर चल रहे हैं। उनके शासन काल को बिहार में जातिवादी राजनीति के उदय के अलावा हाईकोर्ट की टिप्पणी में “जंगलराज” घोषित करने के लिए भी जाना जाता है। उन्होंने “गोपालगंज टू रायसीना” जैसी कोई किताब भी लिखी है। गोपालगंज से वह लम्बे समय तक सांसद रहे और रेल मंत्री भी बने। इस रेल मंत्री के गोपालगंज में रेलवे स्टेशन कहाँ है, यह गंभीर शोध का विषय हो सकता है।

इसी आन्दोलन से रामविलास पासवान जैसे राजनीतिज्ञ भी उभरकर आये। वो कांग्रेस, गठबंधन और भाजपा सभी सरकारों में मंत्री होने के लिए याद किये जा सकते हैं। कभी-कभी उन्हें राजनीति का बैरोमीटर भी कहा जाता था। वह जिस पक्ष के साथ दिखते थे, उनकी चुनावी जीत की संभावना प्रबल होती थी। अपने ही परिवार के लोगों की राजनैतिक पार्टी बना डालने में वह भी दूसरे समाजवादियों जैसे ही रहे हैं। इसी आन्दोलन से निकले सुशील कुमार मोदी की सत्तर के दशक में पटना के जलजमाव पर अनशन की तस्वीरें नजर आती हैं। हालाँकि, जब वह उप मुख्यमंत्री थे तो पटना के जल-जमाव से उनका आवास ही डूबा रहा। फिलहाल, तो भाजपा ने उन्हें केंद्र की राजनीति के लिए दिल्ली भेज दिया है।

भारतीय पौराणिक कथाओं में एक समुद्र मंथन का जिक्र मिलता है। सुर-असुर दोनों ने मिलकर जो समुद्र मंथन किया था, उसमें कई निधियों के साथ हलाहल विष भी निकला था। अगर बिहार की राजनीति में “सम्पूर्ण क्रांति” को समुद्र मंथन माना जाए तो उससे निकले नेता “हलाहल” ही लगते हैं। बाकी सवाल ये है कि अगर सम्पूर्ण क्रांति से निकल हलाहल हम बिहारियों के हिस्से आया, तो फिर सारी निधियाँ कहाँ गयीं?

Anand Kumar
Anand Kumar
All Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Recent Posts

Popular Posts

Video Posts