सितम्बर 26, 2022 5:21 अपराह्न

Category

सऊदी अरब में कहाँ-कहाँ चल रहे मुहम्मद बिन सलमान के बुलडोजर

सऊदी अरब के जेद्दाह में दर्जनों पुराने मुहल्लों को बुलडोजरों ने ढहा दिया है। यहाँ पर्यटन के लिए लक्जरी इमारतें, मॉल, होटल, स्टेडियम, और म्यूजियम बनाए जाएँगे। मुहम्मद बिन सलमान सऊदी की तेल आधारित अर्थव्यवस्था को बदलने के लिए आक्रामक सुधार कर रहे हैं।

2319
2min Read
Saudi Arab Jeddah MUhammad Bin Salman MBS सऊदी अरब जेद्दाह एमबीएस मुहम्मद बिन सलमान

जेद्दाह, सऊदी अरब के इस तटवर्ती शहर में किलोमीटरों तक फैले पुराने मुहल्लों को दर्जनों बुलडोजरों ने तेजी से ढहा दिया है। एक बहुत बड़े मलबे के ढेर से जेद्दाह पट गया है। इस साल की शुरुआत में, सऊदी अरब सरकार ने पर्यटकों और अमीर विदेशियों को आकर्षित करने के लिए देश के दूसरे सबसे बड़े शहर, जेद्दाह के पुराने रहवासों के पुनर्विकास के लिए 20 बिलियन डॉलर की परियोजना घोषित की थी। लेकिन इस योजना में गरीब तबके के सैकड़ों-हजारों लोगों के घर तोड़कर उन्हें विस्थापित किया जा रहा है।

प्रस्तावित योजना में खाली की गई जगहों पर लक्जरी गगनचुंबी इमारतें, मॉल, होटल, पार्क, ओपेरा हाउस, स्टेडियम, एक्वेरियम और म्यूजियम जैसे पर्यटनस्थल विकसित किए जाएँगे। एमनेस्टी इंटरनेशनल द्वारा जारी सैटेलाईट गणना के अनुसार योजना में 60 मुहल्लों और 13,000 सॉकर फील्ड के बराबर इलाके को ध्वस्त किया जा रहा है, जो मानवाधिकारों का उल्लंघन है।

Saudi Arab Jeddah MUhammad Bin Salman MBS सऊदी अरब जेद्दाह एमबीएस मुहम्मद बिन सलमान
जेद्दाह का एक ध्वस्त इलाका

पिछले साल से शुरू हुए इस विध्वंस में बुलडोजरों ने पूरे पूरे मोहल्लों को उजाड़ दिया है। सोने के गहने बेचने के लिए मशहूर एक पुराना, विशाल बाजार पूरी तरह तोड़ दिया गया, जिससे कई हजार लोगों के रोजगार पर संकट आ गया।

बहुत से इलाकों में, घरों और दुकानों पर लाल स्प्रे-पेंट से एक अरबी शब्द “इखला” लिख दिया गया, यानि “खाली करो”। इस तरह सरकार ने लोगों को फतवा जारी कर दिया कि जल्दी से जल्दी ये इलाका छोड़ दो। कुछ जगह तो केवल एक सप्ताह या 24 घंटे के नोटिस पर लोगों को घर छोड़ने के लिए कह दिया गया।

Saudi Arab Jeddah MUhammad Bin Salman MBS सऊदी अरब जेद्दाह एमबीएस मुहम्मद बिन सलमान
एक मुहल्ले के प्रवेश द्वार पर निवासियों को विध्वंस से पहले अपने सामान के साथ अपने घरों को छोड़ने की चेतावनी देता एक नोटिसबोर्ड

सालों से बसे अप्रवासी खा रहे दर दर की ठोकरें

जेद्दाह को मुस्लिमों के पवित्र शहर मक्का का प्रवेश द्वार माना जाता है और, जेद्दाह सऊदी अरब की सबसे ज्यादा सांस्कृतिक विविधताओं वाला शहर माना जाता है। कई विदेशी मूल के लोग दशकों पहले मक्का की हजयात्रा के लिए यहाँ आए और यहीं बस गए। पर यह इलाका अब जल्द ही ढहने वाला है।

Saudi Arab Jeddah MUhammad Bin Salman MBS सऊदी अरब जेद्दाह एमबीएस मुहम्मद बिन सलमान

यहाँ सूडान के आप्रवासियों से भरा एक प्रसिद्ध कॉफीहाउस है। जहाँ तुर्की कॉफी की तरह बहुत सारी अदरक डालके मसालेदार कॉफी बनती है। पर यहाँ की सूडानी कॉफी, सूडानी कुजीन और सूडानी कपड़ों की दुकानों समेत आसपास की हर चीज जल्द ही ढहा दी जाएगी।

MBS के नेतृत्व में तेजी से बदल रहा सऊदी अरब

सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने अपनी इस महत्वाकांक्षी विकास योजना को “विजन 2030” का नाम दिया है। उन्होंने देश में व्यापक सुधार पेश किए हैं। दशकों से आर्थिक समृद्धि का मजा उड़ा रहे अरब को अब तेल खत्म होने का डर सता रहा है। इसलिए MBS अब सऊदी अरब की तेल पर निर्भर अर्थव्यवस्था को पर्यटन, खनन, सर्विस जैसी अन्य आर्थिक गतिविधियों पर निर्भर बनाना चाहते हैं ताकि 40 से 50 साल में तेल के खत्म होने की संभावनाओं के बाद भी सऊदी अरब को किसी और का मुँह न देखना पड़े।

Saudi Arab Jeddah MUhammad Bin Salman MBS अरब जेद्दाह एमबीएस मुहम्मद बिन सलमान
जेद्दाह का एक बीच

सऊदी अरब की अर्थव्यवस्था में विविधता लाने के लिए MBS नाम से मशहूर क्राउन प्रिंस ने पिछले कुछ सालों में अभूतपूर्व परिवर्तन किए हैं। पर्यटन बढाने के लिए उन्होंने सऊदी में पहली बार सिनेमाघर खोलने व महिलाओं को कार ड्राइव करने और काम करने की अनुमति दी थी।

एक तरफ क्राउन प्रिंस इस्लामिक गणराज्य द्वारा नागरिक स्वतंत्रता पर कसी हुई नकेल को ढीला कर रहे हैं, इस्लाम में उदारवाद का समावेश कर रहे हैं तो दूसरी ओर किसी भी कीमत पर सुधार करने की जिद के लिए बिन सलमान ने आक्रामक और सत्तावादी दृष्टिकोण अपना रखा है।

सऊदी के कट्टरवाद पर भी चल रहा बुलडोजर 

Saudi Arab Jeddah MUhammad Bin Salman MBS सऊदी अरब जेद्दाह एमबीएस मुहम्मद बिन सलमान
सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान

क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान ने विकास ही नहीं बल्कि अरब में सदियों से चलती आ रही कई इस्लामिक मान्यताओं और तौर तरीकों में फेरबदल कर दिया है। पिछले साल अपने एक इंटरव्यू में सलमान ने कहा था,

“सऊदी अरब सरकार कुरआन पर चलती है जिसके लिए हम प्रतिबद्ध हैं, हम इसे सर्वसमावेशी रूप में अमल कर रहे हैं। लेकिन सामाजिक और व्यक्तिगत मामलों में, हम केवल उन्हीं नियमों को लागू करेंगे जो कुरान में स्पष्ट रूप से बताए गए हों। इसलिए, मैं कुरान या सुन्नत में स्पष्ट प्रमाण के बिना शरिया की सजा को लागू नहीं कर सकता।”

बिन सलमान ने तरह तरह की हर हदीसों को मानने से भी इंकार कर दिया था, MBS ने कहा था कि, “हदीस कई तरह की हैं जैसे, मुतवतर, अहद और खबर हदीस। मुतवतर हदीस सीधे पैगंबर के समय से एक समूह से दूसरे समूह में चली आ रही हैं, ये संख्या में कम हैं पर इनकी सत्यता ज्यादा है, हालाँकि व्याख्याकारों ने समय और स्थान के अनुसार उनकी कई व्याख्या की हैं।

Saudi Arab Jeddah MUhammad Bin Salman MBS अरब जेद्दाह एमबीएस मुहम्मद बिन सलमान
जेद्दाह की एक सड़क के दो छोर, जिसमें से एक तरफ सब कुछ ढहा दिया गया है

लेकिन अहद हदीसें पैगंबर से शुरू होकर समूह की बजाय एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को, या एक समूह से एक व्यक्ति को दी गईं। इसे फिर ‘सही’, ‘कमजोर’, या ‘अच्छी’ हदीस में बांटा गया, इसलिए ये मुतवतर हदीस जितनी प्रमाणिक नहीं हैं। जबकि “खबर” वह हदीसें हैं जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को एक अज्ञात स्रोत द्वारा सौंपी गईं, यह हदीसें बहुमत में हैं पर इनमें एक लापता लिंक होने की वजह से ये अविश्वसनीय हैं, और अपनी सत्यता प्रमाणित न होने तक बाध्यकारी नहीं हैं।

इसलिए, जहां तक शरिया की बात है, तो हम सरकारी स्तर पर केवल कुरान और ‘मुतवतर’ हदीसों को लागू करेंगे, ‘अहद’ हदीसों की सत्यता और विश्वसनीयता को जांचेंगे, और ‘खबर’ हदीसों को पूरी तरह छोड़ देंगे, जब तक कि उनसे मानवता को कोई स्पष्ट लाभ न मिलता हो। इसलिए कुरान में स्पष्ट न होने तक धार्मिक मामलों में कोई सजा नहीं होनी चाहिए, और वह सजा भी केवल उसी तरीके से लागू होगी जैसे पैगंबर ने उसे लागू किया था।”

अबूधाबी में निर्मित किया जा रहा पहला हिन्दू मंदिर, पर सऊदी में अभी इंतजार बाकी है

इस तरह कोड़े और पत्थर मारने जैसी सजा देने वाले देश में बिन सलमान ने इस्लाम की बहुत सारी हदीसों को नकारकर तरह तरह की उदारवादी व्याख्याएँ पेश की थीं। इसी उदारवाद के आधार पर MBS ने पहली बार महिलाओं को कई तरह के अधिकार दिए हैं।

पर अभी भी सऊदी उदारवाद इतना बड़ा नहीं हुआ है कि सभी को समाहित कर सके। सऊदी में भारत से लेकर अन्य एशियाई देशों के अनेक धर्मों के लोग रहते हैं, पर अभी तक उन्हें अपने धर्मस्थल बनाने की इजाजत नहीं मिली है। जहाँ दूसरे अरबी देश UAE में पहली बार दो हिन्दू मंदिर बनने वाले हैं, वहीं सऊदी के हिन्दुओं को अभी भी एक मंदिर का इंतजार है।

UAE हिन्दू मंदिर Hindu Temple
अबूधाबी के हिन्दू मंदिर के शिलान्यास का दृश्य

पर्सनल फ्रीडम और आक्रामक सुधारों की दोधारी तलवार  

सऊदी में जिस पैमाने और तरीके से यह सब सुधार हो रहे हैं, वह जनता के लिए परेशान करने वाले हैं। इस्लामिक सऊदी में सरकार की आलोचना करना बहुत महंगा सौदा रहा है, जिसमें सीधे जेल और उससे भी कड़ी सजाएं दी जाती रही हैं, पर पुरानी बस्तियों के जोरदार विध्वंस के बाद सऊदी में ऑनलाइन हंगामा खड़ा हो गया जिसमें सरकार की जमकर आलोचना हुई। 

2018 में, सऊदी के खूफिया एजेंटों ने एक ऑपरेशन में सऊदी के आलोचक जमाल खशोगी की हत्या कर दी थी, जिसपर अमेरिकी खूफिया विभाग ने कहा था कि यह क्राउन प्रिंस के इशारे पर किया गया है। इसलिए सऊदी जनता सरकारी नीतियों पर मौन ही रहती आई है, लेकिन विध्वंस के बाद पहली बार सऊदी अरब की आम जनता ने जोरदार ऑनलाइन हंगामा कर दिया था।

Saudi Arab Jeddah MUhammad Bin Salman MBS सऊदी अरब जेद्दाह एमबीएस मुहम्मद बिन सलमान
जेद्दाह में काम पर लगे हुए बुलडोजर

जनता के इस आक्रोश के बाद सरकार ने बेदखल किए गए लोगों को मुआवजे की पेशकश की – पर केवल सऊदी नागरिकों के लिए। विस्थापितों में आधी आबादी सूडानी और अन्य विदेशी अप्रवासियों की है, जिन्हें कुछ भी नहीं मिलेगा।

शहर छोड़कर गाँव जाने पर मजबूर हुए लोग

कुछ लोग इन मुहल्लों में एक दशक से ज्यादा समय से रह रहे थे। पर पहले तो अचानक उनके बिजली पानी के कनेक्शन काट दिए गए और फिर उन्हें सात दिनों के भीतर खाली करने का नोटिस थमा दिया गया। कई किलोमीटर तक फैले इन मुहल्लों के विनाश के कारण जेद्दाह में अपार्टमेंट और घरों की कमी हो गई है, जिससे किराया आसमान छू रहा है।

Saudi Arab Jeddah MUhammad Bin Salman MBS अरब जेद्दाह एमबीएस मुहम्मद बिन सलमान
जेद्दाह में तोड़े जाने के लिए जुलाई में चिह्नित की गई कुछ इमारतें।

इतने महँगे किराए को ज्यादातर लोग नहीं उठा सकते इसलिए वो शहर छोड़कर गाँवों, कस्बों में जा रहे हैं। ज्यादातर गाँव सऊदी अरब के दक्षिणी पहाड़ी इलाकों में हैं, जहाँ स्कूलों, कॉलेजों और हॉस्पिटलों की कोई खास व्यवस्था नहीं है।

महँगाई की मार से अमेरिकी गाँवों से हो रहा है पलायन

Mudit Agrawal
Mudit Agrawal
All Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Recent Posts

Popular Posts

Video Posts