सितम्बर 26, 2022 5:26 अपराह्न

Category

रूसी तेल पर अमेरिकी प्रतिबंध फेल, एशिया के दम पर फलफूल रहा रूस का तेल कारोबार

रूस से आयात पर लगाए गए व्यापक अमेरिकी प्रतिबंधों के बावजूद, रूस का विशाल ऊर्जा क्षेत्र लगातार फल-फूल रहा है।
ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत और चीन द्वारा रूसी तेल का आयात पहले की तुलना में तेजी से बढ़ा है।

1753
2min Read
रूसी तेल अमेरिकी प्रतिबंध Russian-oil.

अमेरिका द्वारा रूस पर लगाए गए व्यापक आयात प्रतिबंधों के बावजूद, रूस का विशाल ऊर्जा क्षेत्र लगातार फल-फूल रहा है। यूक्रेन पर आक्रमण के बाद के पहले 100 दिनों में रूस प्रति दिन लगभग एक बिलियन डॉलर मूल्य के जीवाश्म ईंधनों का निर्यात कर रहा है। भले ही प्रतिबंधों के कारण निर्यात की मात्रा में थोड़ी गिरावट हो पर पूरे विश्व में कच्चे तेल और ईंधन की ऊंची कीमतों ने रूसी तेल और गैस के राजस्व में बढ़ोतरी की है।

सस्ते रूसी ‘यूरल्स’ के इच्छुक खरीदारों की कोई कमी नहीं है, न ही उन्हें रूसी ऊर्जा कंपनियों के साथ जोड़ने वाले बिचौलियों की कमी है। यूरल्स रूस से कच्चे तेल का सबसे आम निर्यात ग्रेड है और यूरोप के क्रूड बाजार में एक महत्वपूर्ण बेंचमार्क है। रूस के 80% से अधिक तेल का निर्यात यूरल तेल के रूप में होता है जो ज्यादातर रूसी कच्चे तेलों की किस्मों का मिश्रण है। 

इस बढ़े हुए निर्यात के पर्दे के पीछे स्विट्जरलैंड के विशाल व्यापारिक घराने विटोल, ग्लेनकोर, और गनवोर के साथ-साथ सिंगापुर के ट्रैफिगुरा आदि शामिल हैं, जिन्होंने रूस पर व्यापक पश्चिमी प्रतिबंधों के बावजूद डीजल सहित बड़ी मात्रा में रूसी कच्चे तेल और उत्पादों को खरीदना जारी रखा है।

विटोल ने कहा तो है कि वह इस साल के अंत तक रूसी कच्चे तेल की खरीद बंद कर देगा, पर यह अभी बहुत दूर की बात है। ट्रैफिगुरा ने वादा किया था कि वह 15 मई तक रूस के सरकारी रोसनेफ्ट से कच्चे तेल की खरीद बंद कर देगा, लेकिन अन्य आपूर्तिकर्ताओं से रूसी कच्चे तेल के कार्गो खरीदने के लिए स्वतंत्र रहेगा।

ग्लेनकोर ने वादा किया है कि वह रूस के साथ किसी भी “नए” व्यापारिक व्यवसाय में प्रवेश नहीं करेगी, लेकिन पिछले सौदों को बनाए रखेगी। साफ है कि इस तरह के वादों का रूस पर कुछ भी प्रतिकूल असर नहीं पड़ना है! इस बीच, रूसी ईंधन के बाजारों में जो कमी आई है उसे भारत और चीन पूरा कर दे रहे हैं।

स्रोत: विज़ुअल कैपिटलिस्ट

रूस से आयात में वृद्धि

अपनी ईंधन जरूरतों का 80% भाग आयात करने के बावजूद भारत कभी भी रूसी कच्चे तेल का बड़ा खरीदार नहीं रहा है। एक सामान्य वर्ष में, भारत रूस से अपने कच्चे तेल का केवल 2-5% आयात करता था, और रूसी ईंधन पर 100% प्रतिबंध लगाने से पहले अमेरिका भी रूस से लगभग इतना ही आयात करता था।

भारत ने 2021 में रूस से केवल 12 मिलियन बैरल कच्चे तेल का आयात किया था, और बाकी अधिकांश तेल इराक, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और नाइजीरिया से प्राप्त किया गया था। लेकिन इस साल मई से, भारत को रूसी तेल आपूर्ति में “महत्वपूर्ण वृद्धि” की कई रिपोर्ट सामने आई हैं।

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत ने रूस यूक्रेन युद्ध के बाद पहले तीन महीनों में ही रूसी तेल, गैस और कोयले पर 5.1 अरब डॉलर खर्च किए, जो एक साल पहले की राशि के पांच गुना से अधिक है। हालांकि, चीन रूसी ऊर्जा आपूर्ति का सबसे बड़ा खरीदार बना हुआ है, जिसने मई के अंत तक तीन महीनों में 18.9 अरब डॉलर रुसी तेल पर खर्च किए हैं, जो एक साल पहले की राशि से लगभग दोगुना है।

अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी (IEA) के अनुसार, रूस यूरल क्रूड पर रिकॉर्ड डिस्काउंट दे रहा है। ट्रांसवर्सल कंसल्टिंग के अध्यक्ष एलेन वाल्ड ने बताया कि कुछ कमोडिटी ट्रेडिंग फर्म – जैसे ग्लेनकोर और विटोल – यूरल्स मिश्रण के लिए क्रमशः $ 30 और $ 25 प्रति बैरल की छूट दे रहे थे। यूरल रूस द्वारा निर्यात किया जाने वाला मुख्य क्रूड मिश्रण है।

पश्चिमी अर्थशास्त्री तो यहाँ तक कह रहे हैं कि रूस से कच्चे तेल की खरीद पर अंकुश लगाने के व्हाइट हाउस के दबाव दिल्ली के बहरे कानों में पड़े हैं, इसका कारण साधारण अर्थशास्त्र है। इस तरह के बयानों में भारत द्वारा प्रतिबंधों को दरकिनार करने से उपजी पश्चिम की खीज छुपी है।

स्रोत: ब्लूमबर्ग

सरकारी संबंध परामर्श फर्म वोगेल ग्रुप में व्यापार के प्रमुख समीर एन. कपाड़िया, ने सीएनबीसी को बताया, “इसके पीछे भारत सरकार की मंशा आर्थिक है, राजनीतिक नहीं। भारत अपनी तेल आयात रणनीति में हमेशा एक अच्छे सौदे की तलाश करेगा। जब आप अपने तेल का 80-85% आयात करते हों, तब कच्चे तेल पर 20% की छूट को नज़रंदाज़ करना मुश्किल है, विशेष रूप से महामारी और वैश्विक विकास की मंदी के दौर में।”  

फिर भी, पाठकों को यह भी पता होना चाहिए कि भारत ने पिछले अनेक वर्षों से रूस के साथ एक मधुर संबंध बनाए रखा है, रूस एशियाई राष्ट्रों को उनके सैन्य और रक्षा-संबंधी उपकरणों के 60% तक की आपूर्ति करता है। कश्मीर के क्षेत्र को लेकर चीन और पाकिस्तान के साथ भारत के विवाद जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर भी रूस भारत का एक प्रमुख सहयोगी रहा है।

छोटी ट्रेडिंग फर्म

रूस के साथ भारत का ऊर्जा कारोबार फलफूल रहा है, यहां तक ​​कि दर्जनों बिचौलिए तेजी से बढ़ते इस क्षेत्र से लाभ की उम्मीद में कड़ी मशक्कत कर रहे हैं। हालांकि, यह काम ट्रैफिगुरस, ग्लेनकोर और गनवोर्स जैसे बड़े फर्म नहीं कर रहे हैं बल्कि इस बार छोटे, कम प्रसिद्ध व्यापारिक घरानों ने भारतीय रिफाइनरियों के साथ आपूर्ति सौदे किए हैं।

ब्लूमबर्ग ने बताया कि दुबई की वेलब्रेड और कोरल एनर्जी, सिंगापुर की मोंटफोर्ट और यूएस की एवरेस्ट एनर्जी सहित कई मध्य-स्तरीय कमोडिटी ट्रेडिंग और ऊर्जा फर्मों ने भारतीय खरीदारों को रूसी तेल का व्यापार करने की दौड़ में प्रवेश किया है। और भारतीय तेल खरीदार इसे पसंद कर रहे हैं।

ब्लूमबर्ग का कहना है कि इंडियन ऑयल कॉर्प जैसे राज्य द्वारा संचालित रिफाइनर कम-ज्ञात व्यापारियों से कच्चा तेल खरीदने के विचार पर काम कर रहे हैं, जबकि रिफाइनरी के अधिकारियों का कहना है कि छोटी फर्मों में कम नौकरशाही के कारण उनके साथ काम करना आसान होता है जबकि रोसनेफ्ट पीजेएससी जैसी बड़ी ऊर्जा फर्मों के सौदे धीमी गति से हो पाते हैं। व्यापारिक घराने आमतौर पर विक्रेताओं और खरीदारों के बीच सामंजस्य बनाकर बिचौलिए की भूमिका अदा करते हैं और यहां तक ​​​​कि पैसे के लेनदेन में सुविधा के लिए विभिन्न अच्छी भुगतान शर्तों की पेशकश भी करते हैं।

स्विट्ज़रलैंड की भूमिका

पुतिन को युद्ध में आर्थिक मदद करने वाली बहुत सी कंपनियां स्विट्जरलैंड में स्थित हैं, रूसी कच्चे माल के एक बड़े हिस्से का व्यापार स्विट्जरलैंड में स्थित रूस की लगभग 1,000 कमोडिटी फर्मों के माध्यम से हो रहा है। सभी वैश्विक व्यापार मार्गों से दूर होने और समुद्र तक कोई पहुंच नहीं होने के बावजूद स्विट्ज़रलैंड एक संपन्न कॉमोडिटी क्षेत्र के साथ साथ एक महत्वपूर्ण वैश्विक वित्तीय केंद्र है, यह कोई पूर्व औपनिवेशिक क्षेत्र नहीं है, और न ही इसके पास कोई महत्वपूर्ण कच्चा माल है।

मॉस्को में स्विस दूतावास की एक रिपोर्ट के अनुसार, डॉयचे वेले ने बताया है कि 80% रूसी कच्चे माल का व्यापार स्विट्जरलैंड के माध्यम से किया जा रहा है। उन सामग्रियों में से लगभग एक तिहाई तेल और गैस हैं, जबकि दो-तिहाई जस्ता, तांबा और एल्यूमीनियमजैसी धातुएं हैं। दूसरे शब्दों में, स्विस डेस्क पर हस्ताक्षरित सौदे रूसी तेल और गैस को सीधे स्वतंत्र रूप से प्रवाहित करने की सुविधा प्रदान कर रहे हैं। 

रूस की आय के मुख्य स्रोत के रूप में गैस और तेल निर्यात के उभार के साथ इसका रूसी बजट में 30 से 40% हिस्सा हो गया है, और युद्ध के इस समय में इसमें स्विट्जरलैंड की भूमिका को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। ख़ास बात है कि केवल पैसा स्विट्जरलैंड से होकर बहता है, लेकिन वास्तविक कच्चा माल आमतौर पर स्विस मिट्टी को छूता भी नहीं है। रूसी राज्य निगमों ने अकेले 2021 में तेल निर्यात से लगभग 180 बिलियन डॉलर (€ 163 बिलियन) की कमाई की थी जो इस वर्ष बढ़ती जा रही है।

Mudit Agrawal
Mudit Agrawal
All Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Recent Posts

Popular Posts

Video Posts