फ़रवरी 8, 2023 6:27 पूर्वाह्न

Category

सुप्रीम कोर्ट ने बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश पर लगाई रोकः जीएन साईबाबा और अन्य को किया था रिहा

अपने आदेश में सुप्रीम कोर्ट ने जोर देते हुए कहा कि बॉम्बे हाईकोर्ट के सुनाए फैसले को निलंबित करना आवशयक है। 

766
2min Read
जीएन साईबाबा

सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को माओवादियों से संपर्क मामले में दिल्ली विश्वविद्यालय के पूर्व प्रोफेसर जीएन साईबाबा और पांच अन्य को बरी करने के बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश को निलंबित कर दिया। एक दिन पहले ही बॉम्बे हाईकोर्ट ने जीएन साईबाबा और अन्य आरोपितों को रिहा किए जाने का आदेश जारी किया था। 

जस्टिस एमआर शाह और बेला एम त्रिवेदी की बेंच ने यह आदेश जारी किया। 

जीएन साईबाबा
जीएन साईबाबा साभार: Hindustan Times

सुप्रीम कोर्ट का आदेश

अपने आदेश में सुप्रीम कोर्ट ने जोर देते हुए कहा कि बॉम्बे हाईकोर्ट के सुनाए फैसले को निलंबित करना आवश्यक है। 

पीठ ने आरोपी जीएन साईबाबा की नाजुक स्वास्थ्य स्थिति को देखते हुए घर में नजरबंद रखने के अनुरोध को भी खारिज कर दिया। अपने आदेश में पीठ ने कहा कि अपराध बहुत गंभीर हैं, और आरोपियों को सबूतों की विस्तृत समीक्षा के बाद ही दोषी ठहराया गया था। 

किस मामले में हैं दोषी?

साल 2017 में महाराष्ट्र के जिले गढ़चिरोली की एक सत्र अदालत ने जीएन साईबाबा और अन्य पांच को माओवादी संबंधों और देशद्रोही गतिविधियों में शामिल होने का दोषी ठहराया था। 

जीएन साईबाबा जेनयू के छात्र और और डीयू में प्रोफेसर थे। वह अभी नागपुर जेल में बंद है और चलने फिरने में असमर्थ है। 

अन्य आरोपितों के नाम महेश करीमन तिर्की, पांडु पोरा नरोटे, हेम केशवदत्त मिश्रा और प्रशांत सांगलीकर और विजय तिर्की हैं। आरोपी पांडु पोरा नरोटे की पहले ही मृत्यु हो चुकी है। 

Yash Rawat
Yash Rawat

बात करते हैं लेकिन सिर्फ काम और समय अनुसार

All Posts

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Recent Posts

Popular Posts

Video Posts